इश्क-विश्क, प्यार-व्यार

इश्क-विश्क, प्यार-व्यार की चहुं और होरही है बहार,
आई लव यू की पुकार से गुंजायमान हो रहा पूरा संसार,
वेलेन्टाइन डे का कर रहे सभी युवा बेसब्री से इन्तजार,
क्या यह वास्तविक मधुर प्रेम का ही हो रहा है इजहार,
या बहुराष्ट्रीय व्यापारिक गठजोङ का हो रहे सभी शिकार,
क्या भेंटों के आदान-प्रदान का है यह कोई नव आविष्कार,
या युवा पिढी हो रही दिग्भ्रमित, बेबस और लाचार,
मिथ्या प्रपंच त्याग करें इक दूजे को वास्तविक प्यार,
क्योंकि इक सुमधुर अनुभुति ही है सच्चा इश्क व प्यार।

Advertisements

4 thoughts on “इश्क-विश्क, प्यार-व्यार

  1. ham pashchimi sabhyata ki wor badh rahe hain…..hamne to dekha bhi nahi wah kaisi hai sabhyata agar aisi hai to …..bhayawah hai…..esmen to prem hai hi nahi…..bat bat par nafrat aur chhal hai…….badhiya likha apne.

    Like

  2. Kya baat kaha di aapne! Bahut badhiya!

    Like

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

w

Connecting to %s

%d bloggers like this:
search previous next tag category expand menu location phone mail time cart zoom edit close